18 जनवरी, 2021|3:56|IST

अगली स्टोरी

मिथुन

17 जन॰ 2021

मन में निराशा एवं असन्तोष रहेगा। बातचीत में सन्तुलित रहें। परिवार की समस्याएं परेशान कर सकती हैं। धन की स्थिति में सुधार होगा। नौकरी में इच्छाविरुद्ध कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी मिल सकती है। कार्यक्षेत्र में कठिनाइयां आ सकती हैं। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

मिथुन

18 जन॰ 2021

मन परेशान रहेगा। आत्मसंयत रहें। क्रोध के अतिरेक से बचें। पारिवारिक जीवन कष्टमय हो सकता है। मन अशान्त रहेगा। स्वभाव में चिड़चिड़ापन भी हो सकता है। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। खर्चों में वृद्धि होगी। लाभ के अवसर म‍िलेंगे। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)
 

मिथुन

19 जन॰ 2021

बातचीत में सन्तुलित रहें। कार्यक्षेत्र में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। आय की स्थिति में सुधार होगा। आशा-निराशा के मिश्रित भाव मन में रहेंगे। माता से वैचारिक मतभेद हो सकते है। जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)
 

मिथुन

week4-2021

Not found

मिथुन

1 जन॰ 2021

मास के प्रारंभ में आत्मविश्वास से लबरेज तो रहेंगे परंतु क्रोध व आवेश की अधिकता हो सकती है। पांच जनवरी से मन परेशान हो सकता है। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। दिनचर्या अव्यवस्थित हो सकती है। परंतु संतान के स्वास्थ्य में सुधार होगा। वाहन के रखरखाव के खर्चों में कमी आएगी। किसी मित्र के सहयोग से भूमि या संपत्ति से आय हो सकती है। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

मिथुन

1 जन॰ 2021

मिथुन- (21 मई - 21 जून)
वर्ष के प्रारंभ में धैर्यशीलता में कमी रहेगी। पांच जनवरी से 25 जनवरी के मध्य मन परेशान हो सकता है। परिवार की समस्याएं परेशान कर सकती हैं। रहन-सहन भी अव्यवस्थित रहेगा। नौकरी में 15 जनवरी के उपरांत कार्यक्षेत्र में परिवर्तन के योग बन रहे हैं। 22 फरवरी से आय में कमी आ सकती है। सेहत का ध्यान रखें। कारोबार में परिश्रम अधिक रहेगा। कारोबार में वृद्धि होगी। 16 अप्रैल के बाद शैक्षिक कार्यों में सुधार होगा। धर्म के प्रति श्रद्धाभाव रहेगा। धन की स्थिति में सुधार होगा। नौकरी में किसी विशेष प्रयोजन से विदेश यात्रा के योग बन रहें हैं। यात्रा लाभप्रद रहेगी। 24 मई के उपरांत किसी पुराने मित्र से भेंट हो सकती है। छह सितंबर के बाद किसी सम्पत्ति से धन लाभ हो सकता है। पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। वस्त्रों आदि पर खर्च अधिक हो सकते हैं।
उपाय-
1.
प्रत्येक शनिवार के दिन शाम के समय पीपल के वृक्ष के नीचे सरसों के तेल के दीपक में थोड़ी सी उड़द की दाल डालकर, दीपक जलाएं।
2. चंदन के इत्र को नहाने के पानी में डालकर स्नान किया करें। पूजा-पाठ में चंदन की सुगंध की धूप या अगरबत्ती जलाया करें।
3. मंगलवार के दिन लाल कपड़े में गुड़ बांधकर मंदिर में हनुमान जी के चरणों में अर्पित किया करें।